क्या आपके घर में भी है पीपल का पेड़

0
83
views

पीपल के पेड़ का वैज्ञानिक महत्व
पृथ्वी पर पाए जाने वाले सभी वृक्षों में केवल पीपल को प्राणवायु यानि ऑक्सीजन को शुद्ध करने वाले पेड़ों में सर्वोत्तम माना जाता है। पीपल ही एक ऐसा पेड़ है जो चौबीसों घंटे ऑक्सीजन उत्सर्जित करता रहता है, जबकि अन्य वृक्ष रात में कार्बन डाईऑक्साइड या फिर नाइट्रोजन गैस छोड़ते हैं। इसके साथ ही पीपल को सबसे बड़ा पर्यावरण हितैषी वृक्ष माना जाता है, क्योंकि पर्यावरण को शुद्ध करने में इसकी अहम भूमिका होती हैं।
पृथ्वी पर पाए जाने वाले सभी वृक्षों में केवल पीपल को प्राणवायु यानि ऑक्सीजन को शुद्ध करने वाले पेड़ों में सर्वोत्तम माना जाता है। पीपल ही एक ऐसा पेड़ है जो चौबीसों घंटे ऑक्सीजन उत्सर्जित करता रहता है, जबकि अन्य वृक्ष रात में कार्बन डाईऑक्साइड या फिर नाइट्रोजन गैस छोड़ते हैं। इसके साथ ही पीपल को सबसे बड़ा पर्यावरण हितैषी वृक्ष माना जाता है, क्योंकि पर्यावरण को शुद्ध करने में इसकी अहम भूमिका है।
आयुर्वेदिक औषधि के रूप में भी पीपल के वृक्ष को बहुत ही कारगर माना गया है। इसके औषधीय गुण कई रोगों को दूर करने में सक्षम है।
श्वास संबंधी बीमारी के लिए है रामबाणः यदि पीपल के पेड़ की छाल का अंदरूनी हिस्सा निकालकर सुखा लें और सूखे हुए इस भाग का चूर्ण बनाकर खाएँ तो इससे श्वास संबंधी दमा रोग समेत कई समस्याएं दूर हो जाती है। इसके अलावा इसके पत्तों का दूध उबालकर पीना दमा के रोग में लाभकारी होता है।

पेट संबंधी विकारों का करता है दूरः पीपल की पत्तियों को पित्त नाशक कहा जाता है। पीपल के पत्ते पेट संबंधी समस्या जैसे गैस और कब्ज़ को दूर करने में सहायक होते हैं। इसके ताजे पत्तों का रस निकालकर पीने से पेट संबंधी विकार दूर हो जाते हैं।

दांतों को बनाएं मोतियों सा चमकदारःपीपल के वृक्ष की टहनियों से दातून करने से दांत मोतियों की तरह सफेद हो जाते हैं। इसके अलावा इससे दांत मजबूत होते हैं और दांत दर्द से राहत पाने के लिए भी यह बेहद अचूक औषधि है।

विष के प्रभाव को करता है कमः किसी व्यक्ति को कोई ज़हरीला जीव-जंतु काट ले तो पीड़ित व्यक्ति को थोड़े-थोड़े समय के अंतराल में पीपल के पत्तों का रस पिलाते रहें। इससे ज़हर का असर कम हो जाता है।

पीपल के पेड़ की पूजा विधि
सूर्योदय से पहले स्नान आदि नित्य कर्मों से निवृत्त हो जाएं।
पीपल की जड़ में गाय का दूध, तिल और चंदन मिला हुआ पवित्र जल अर्पित करें।
जल अर्पित करने के बाद जनेऊ फूल व प्रसाद चढ़ाएं।
धूप-बत्ती व दीप जलाएं।
आसन पर बैठकर या खड़े होकर मंत्र जप करें या इष्ट देवी-देवताओं का स्मरण करें।


मंत्र :
मूलतो ब्रह्मरूपाय मध्यतो विष्णुरूपिणे।
अग्रत: शिवरूपाय वृक्षराजाय ते नम:।।

आयु: प्रजां धनं धान्यं सौभाग्यं सर्वसम्पदम्।
देहि देव महावृक्ष त्वामहं शरणं गत:।।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here