कल है चंद्रग्रहण, जानिए राज्य अनुसार चंद्र ग्रहण के सूतक का समय कब होगा शुरू

0
76
views

इस साल का दूसरा चंद्र ग्रहण कल शुक्रवार की रात में लग रहा है. चंद्र ग्रहण कल रात में ही लगेगा. इस दौरान लोग पूछते है कि ग्रहण कब से शुरू होगा. ग्रहण कब लगेगा और इससे पहले सूतक काल कब शुरू होगा यह जानकारी सभी लोगों को होनी चाहिए. जब भी ग्रहण की बात आती है तो लोग पूछते हैं कि ग्रहण कब लग रहा है, और सूतक का समय कब शुरू होगा तो आपको बता दें कि साल 2020 का दूसरा चंद्र ग्रहण 05 जून यानि कल शुक्रवार की रात में ग्रहण लगेगा. यह दुनियाभर के कई देशों में दिखेगा. इस समय सभी लोग जानना चाहते हैं कि चंद्र ग्रहण किस समय दिखेगा और चंद्र ग्रहण लगने का समय क्या होगा. ज्योतिष गणना के अनुसार, यह चंद्र ग्रहण 05 जून रात 11:15 बजे से शुरू होगा और 06 जून 02:34 बजे तक रहेगा. यह चंद्र ग्रहण वृश्चिक राशि और ज्येष्ठ नक्षत्र में लग रहा है. यानी राशियों पर पड़ने वाले असर पर भी ज्योतिषियों की नजर रहेगी.

05 जून को लगेगा चंद्र ग्रहण :

इससे पहले इस साल पहला चंद्र ग्रहण 10 जनवरी को लगा था. 05 जून को लगने वाला चंद्रग्रहण एशिया, यूरोप, ऑस्ट्रेलिया और अफ्रीका में दिखाई देगा. आकाश के स्पष्ट होने पर रात में हर जगह से ग्रहण दिखाई दे सकता है. कई लोग सवाल यह भी कर रहे हैं कि चंद्र ग्रहण कब है या चंद्र ग्रहण की तारीख क्या है तो हम आपको बता दें 5 जून को चंद्रग्रहण लग रहा है. यह ग्रहण उपछाया ग्रहण होगा. इस ग्रहण के दौरान सूर्य, पृथ्वी और चंद्रमा पूरी तरह से संरेखित होते हैं. पृथ्वी चंद्रमा की सतह तक पहुंचने से सूर्य की कुछ रोशनी को अवरुद्ध करती है और चंद्रमा के एक हिस्से को अपनी बाहरी छाया के साथ कवर करती है, जिसे पेनुमब्रल के रूप में भी जाना जाता है. 05 जून को लगने वाला पेनुमब्रल चंद्र ग्रहण ही है|

क्या है सूतक काल:

इस दौरान एक अशुभ समय की शुरुआत होगी, जिस समय विशेष रूप से बचने की जरूरत है. इसकी शुरुआत चंद्र ग्रहण के करीब नौ घंटे पूर्व ही शुरू हो जाएगा और ग्रहण के समाप्ति के साथ ही रात 2 बजकर 32 मीनट पर सूतक काल भी समाप्त होगा. ऐसे में इस ग्रहण के दौरान सूतक काल मान्य नहीं होगा. यह ग्रहण उपछाया होने के कारण भारत के किसी भी राज्य में इसका सूतक काल मान्य नहीं होगा|

कहां-कहां दिखेगा चंद्र ग्रहण:

यह चंद्र ग्रहण एशिया, ऑस्ट्रेलिया, यूरोप और अफ्रीका में दिखाई देगा. यह एक पेनुमब्रल चंद्र ग्रहण होगा जिसमें आमतौर पर एक पूर्ण चंद्रम से अंतर करना मुश्किल होता है. इस चंद्र ग्रहण की कुल अवधि 3 घंटे 18 मिनट होगी. चंद्र ग्रहण 5 जून को रात 11:15 बजे से शुरू होगा. रात 12:54 बजे सबसे ज्यादा असर दिखाई देगा और 06 जून 02:34 बजे समाप्त हो जाएगा|

जानें खुली आंखों से देख सकते हैं ग्रहण:

एक्सपर्ट्स के अनुसार चंद्र ग्रहण के दौरान या चंद्र ग्रहण को सीधे तौर पर देखना, आपकी आंखों को किसी भी तरह से नुकसान नहीं पहुंचाता. जबकि, सूर्य ग्रहण को नंगी आंखों से देखने पर यह आपकी आंखों को नुकसान पहुंचा सकता है. इसे सौर रेटिनोपैथी कहा जाता है. कभी भी नंगी आंखों के ग्रहण न देखें. इससे आंखों को नुकसान पहुंच सकता है. हमेशा सूर्यग्रहण को खास सोलर फिल्टर वाले चश्मों से देखें. इन्हें सोलर-व्युइंग ग्लासेस, पर्सनल सोलर फिल्टर्स या आइक्लिप्स ग्लासेस कहा जाता है. आपके नॉर्मल चश्मे या गॉगल्स आंखों को यूवी रेज से सुरक्षित नहीं रख सकते|

ग्रहण काल में ये सावधानियां बरतें:

शास्त्रोक्त मान्यताओं के अनुसार, चंद्र ग्रहण के दिन सात्विक रहकर ईश्वर आराधना करना चाहिए। ग्रहण काल में किए गए कार्यों का शुभ फल प्राप्त नहीं होता है। इसलिए ग्रहण काल में भगवान की मूर्ति स्पर्श नहीं करनी चाहिए। इस दौरान ब्रह्मचर्य का पालन करना चाहिए। ग्रहणकाल में खाना-पीना नहीं करना चाहिए। इस समय बाल और नाखून नहीं काटना चाहिए। गर्भवती महिलाएं को ग्रहणकाल में विशेष सावधानी बरतना चाहिए और कैंची, चाकू आदि नुकीली चीजों से कोई वस्तु नहीं काटनी चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here